Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

RJD नेता तेजस्वी यादव का सीएम नीतीश कुमार पर हमला- 2015 में क्यों लालू जी के पैरों पर गिरे थे?

Lok Sabha Polls 2019: बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर ट्वीट के जरिए तीखा हमला बोला है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
RJD नेता तेजस्वी यादव का सीएम नीतीश कुमार पर हमला- 2015 में क्यों लालू जी के पैरों पर गिरे थे?

Lok Sabha Elections 2019: बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव की फाइल फोटो.

खास बातें

  1. राजद नेता तेजस्वी यादव ने बोला सीएम नीतीश कुमार पर हमला
  2. कहा- 2015 में लालू जी के पैरों पर क्यों गिरे थे
  3. लगातार नीतीश कुमार पर हमलावर हैं तेजस्वी यादव
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान नेताओं के ट्वीट की भाषा पर भी तीखी हो चली है. बिहार के राजद नेता तेजस्वी यादव(Tejashwi Yadav) ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार(Nitish Kumar) पर हमला बोला है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा- नीतीश जी हार की बौखलाहट में अब खुलेआम मंचों से छाती पीट धमकी दे रहे है कि लालू जी को कभी भी जेल से बाहर नहीं आने दूंगा. यानि मान रहे है कि उन्होंने अपने गुर्गों के साथ साज़िश कर लालू जी को जेल भेजा . दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा- नीतीश जी, आपके दोहरे चरित्र का आपका पर्दाफ़ाश हो चुका है. नीतीश जी, संविधान का ज़रा सा भी ज्ञान है तो पता कर लीजिये निचली अदालत से ऊपर और भी अदालतें हैं. हम आपकी तरह ज़मीर और जनादेश नहीं बेचते. हम फासीवादियों से डटकर लड़ते और जीतते है. आप 2015 में क्यों लालू जी के पैरों में गिरे थे? क्या जेल से बचने के लिए आपने जनादेश का चीरहरण किया था?

यह भी पढ़ें- बिहारवासियों के नाम तेजस्वी यादव का खत- आपकी पहनाई एक-एक माला, एक-एक नारे का है मुझ पर ऋण


नियोजित शिक्षकों को लेकर भी साध चुके हैं निशाना
बिहार के नियोजित शिक्षकों को नियमित शिक्षकों के समान वेतन देने के आदेश से सुप्रीम कोर्ट के इनकार के बाद आरजेडी नेता और राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधा. तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार सरकार पर नियोजित शिक्षकों का केस ढंग से न लड़ने का आरोप लगाया. तेजस्वी ने ट्वीट किया, 'नीतीश कुमार ने बिहार के नियोजित शिक्षकों का सर्वोच्च न्यायालय में केस जानबूझकर ठीक से नहीं लड़ा. नीतीश-मोदी की निरंकुशता और मिलीभगत से आज बिहार के 3.5 लाख शिक्षकों के बीच समान काम के लिए समान वेतन नहीं मिलने से शोक का लहर है'. तेजस्वी ने आगे लिखा, ''नीतीश कुमार ने शिक्षकों को भी ठग लिया. शर्मनाक''.  

यह भी पढ़ें- तेजस्वी यादव का आरोप, नीतीश कुमार सरकार ने नियोजित शिक्षकों का केस जानबूझकर ढंग से नहीं लड़ा

नीतीश कुमार ने बिहार के नियोजित शिक्षकों का सर्वोच्च न्यायालय में केस जान बूझकर ठीक से नहीं लड़ा. नीतीश-मोदी की निरंकुशता और मिलीभगत से आज बिहार के 3.5 लाख शिक्षकों के बीच समान काम के लिए समान वेतन नहीं मिलने से शोक का लहर है. तेजस्वी यादव ने कहा कि, नीतीश-मोदी के पास अपने प्रिय पूंजीपतियों पर लुटाने और भगाने के लिए खरबों करोड़ हैं, लेकिन बिहार के भविष्य को पढ़ाने और आत्मनिर्भर बनाने वाले शिक्षकों के लिए धन नहीं है.

यह भी पढ़ें- बिहार में फिर गरमाई आरक्षण की राजनीति, तेजस्वी बोले- बीजेपी खत्म करने में जुटी

आपको बता दें कि  सुप्रीम कोर्ट ने आज नियोजित शिक्षकों को नियमित शिक्षकों के समान वेतन देने का आदेश देने से इनकार कर दिया है. कोर्ट ने बिहार सरकार की याचिका मंजूर करते हुए पटना हाईकोर्ट का आदेश रद्द कर दिया. दरअसल, 31 अक्टूबर 2017 को पटना हाईकोर्ट ने सुनवाई करते हुए नियोजित शिक्षकों के पक्ष में आदेश दिया था और कहा था कि नियोजित शिक्षकों को भी नियमित शिक्षकों के बराबर वेतन दिया जाए. राज्य सरकार की ओर से इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुमति याचिका दायर की गई थी. बिहार सरकार की दलील थी कि इस आदेश से उस पर करीब 9500 करोड़ रुपए का आर्थिक बोझ पड़ेगा. 

टिप्पणियां

वीडियो- तेजस्‍वी यादव ने कहा, 'बीजेपी के साथ असहज महसूस कर रहे हैं नीतीश' 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... CAA के खिलाफ जनसभा में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' बोलने वाली लड़की ने एक सप्ताह पहले लिखी थी FB पोस्ट 'सभी देश जिंदाबाद'

Advertisement