NDTV Khabar

Kanya Pujan 2018: नवमीं के दिन कन्या पूजन के लिए हैं दो शुभ मुहूर्त, जानिए कंजक करने का सही तरीका भी

Kanya Pujan 2018: शारदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri) की अष्टमी 17 अक्टूबर और नवमीं 18 अक्टूबर को मनाई जा रही है. इस बार अष्टमी पर कन्या पूजन के दो मुहूर्त हैं, अगर सुबह कंजक ना बिठा पाएं हो तो इस समय करें कन्या पूजन.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Kanya Pujan 2018: नवमीं के दिन कन्या पूजन के लिए हैं दो शुभ मुहूर्त, जानिए कंजक करने का सही तरीका भी

Kanjak 2018: कन्या पूजन का शुभ मुहूर्त और विधि

नई दिल्ली: Kanjak - Kanya Pujan 2018: शारदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri) की अष्टमी 17 अक्टूबर और नवमीं 18 अक्टूबर को मनाई जा रही है. 10 अक्टूबर से हुए शुरू नवरात्रि (Navratri) के आखिरी दो दिनों में कन्या पूजन (Kanya Pujan) की परपंरा होती है. कन्या पूजन के लिए सभी घरों में काफी दिनों पहले से ही तैयारियां शुरू हो जाती हैं. अष्टमी (Durga Ashtami) और नवमीं (Durga Navami) वाले दिन कन्याओं को हलवा, पूरी और चने का भोग लगाने के साथ-साथ उन्हें तोहफे और लाल चुनरी उड़ाना भी शुभ माना जाता है. लेकिन यह काम शुभ मुहूर्त (Kanya Pujan Shubh Muhurat) पर हो तब. क्योंकि कलश स्थापना या फिर पूजा विधि की ही तरह कन्या पूजन (Kanya Pujan) का एक सही समय होता है और हर बाद अष्टमी और नवमीं दोनों दिन कन्याओं के पूजन का समय अलग होता है. आप जिस भी दिन माता का पूजन कर रहे हैं, पहले यहां शुभ मुहूर्त देखें और साथ ही जानें कन्याओं को पूजने का सही तरीका. 

Chandi Homa Havan: कन्या पूजन के बाद जरूर कराना चाहिए 'चंडी होमम हवन', जानिए शुभ मुहूर्त, विधि और मंत्र​

अष्टमी यानी कि 17 अक्टूबर के लिए कन्या पूजन के दो शुभ मुहूर्त
सुबह 6 बजकर 28 मिनट से 9 बजकर 20 मिनट तक.
सुबह 10 बजकर 46 मिनट से दोपहर 12 बजकर 12 मिनट तक.

Kanjak Gifts 2018: कन्याओं को दें इस बार कुछ हटके, इन 7 तोहफों से करें उन्हें खुश​

नवमी यानी कि 18 अक्‍टूबर 2018 को कन्‍या पूजन के दो शुभ मुहूर्त
सुबह 6 बजकर 29 मिनट से 7 बजकर 54 मिनट तक.
सुबह 10 बजकर 46 मिनट से दोपहर 3 बजकर 3 मिनट तक.

Navratri 2018: आखिर क्यों 'शेर' पर सवार रहती हैं मां दुर्गा, जानिए कैसे जंगल का राजा बना शेरावाली का वाहन
 
mbdeoth

Kanya Pujan 2018

Ashtami 2018: विवाह में आ रही बाधांओं को दूर करती हैं मां गौरी, इनके दमकते रंग को लेकर है रोचक कहानी​

अष्टमी और नवमीं दोनों दिन के लिए जानें कन्या पूजन का सही तरीका :

1. सुबह उठकर नहाने के बाद सबसे पहले भगवान गणेश का पूजा करें, जैसे कि हर शुभ काम से पहले करते हैं. उसके बाद अष्टमी के दिन महागौरी (Mahagauri) और नवमीं के दिन सिद्धिदात्री (Siddhidatri) की पूजा करें. महागौरी की पूजा करते वक्त गुलाबी रंग पहनें और सिद्धिदात्री की पूजा करते वक्त बैंगनी रंग पहनें. 

2. कन्या पूजन के लिए सिर्फ 2 से 10 साल तक की कन्याओं को ही बुलाएं. क्योंकि दो साल तक की कन्याओं को पूजने से घर में दुख और दरिद्रता दूर होती है. तीन साल की कन्या को पूजने से घर में धन की वृद्धि होती है और घर खुशियां आती हैं. चार साल की कन्या को पूजने से परिवार का कल्याण होता है और पांच साल की कन्या की पूजा करने से घर में रोग से मुक्ति होती है. छह साल की कन्या घर में विद्या लाती है, सात साल की कन्या को पूजने से ऐश्वर्य मिलता है, आठ साल की कन्या को पूजने से किसी भी वाद-विवाद में वियज की प्राप्ति होती है. नौ वर्ष की कन्या को पूजने से शत्रुओं का नाश होता है और दस साल की कन्या की पूजा करने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. 

Navratri 2018: नवरात्रि पर मां के भक्तों को भेजें ये शानदार मैसेजेस, ऐसे कहें Happy Navratri

3. कन्याओं को कभी भी जबरदस्ती या क्रोध में या फिर जल्दबाज़ी में ना बुलाएं. बल्कि एक दिन पहले कन्याओं को उनके घर जाकर आमंत्रित करें. अगर कोई कन्या ना हो तो सुबह प्यार से हाथ जोड़कर उन्हें घर में प्रवेश कराएं.

4. कन्या को बुलाने से पहले ही घर की अच्छे से साफ-सफाई कर लें. गंदे घर में कन्याओं का पूजन नहीं किया जाता. उनके घर में प्रवेश करने के दौरान ही माता के जयकारे लगाएं जैसे :
प्रेम से बोलो जय माता दी 
सारे बोलो जय माता दी 
मिलके बोलो जय माता दी 
जोर से बोलो जय माता दी 

हंसके बोलो जय माता दी 
शेरावाली जय माता दी 
लाटां वाली जय माता दी 
पर्वत वाली जय माता दी 

5. कन्याओं को घर में जयकारे के साथ बुलाने के बाद साफ आसन बिछाएं और फिर कन्याओं के पैर धोएं. उनके माथे पर रोली, कुमकुम और अक्षत का टीका लगाएं. 

6. कन्याओं के हाथों में मौली बांधे. सभी कन्याओं की घी के दीपक दिखाकर आरती उतारें. आरती के बाद कन्याओं को पूरी, हलवा और चने का बना प्रसाद खिलाएं. कन्याएं जब तक और जितना खाएं उन्हें टोके नहीं. 

7. भोग के बाद कन्याओं को भेंट और उपहार दें. आखिर में उनके पैर छूकर घर के बाहर तक विदा करें.

8. अगर आप अष्टमी या नवमीं वाले दिन कन्या पूजन ना कर पाएं तो नवरात्रि के हर दिन एक दिन एक-एक कन्या को पूज सकते हैं. साथ ही अगर अष्टमी या नवमीं वाले दिन कन्याओं की संख्या नौ या उससे कम या फिर ज्यादा हो जाएं तो कोई फर्क नहीं पड़ता.

टिप्पणियां
9. साथ ही याद रखें कि कन्याओं को सिर्फ अष्टमी या नवमीं वाले दिन ही नहीं बल्कि साल के हरेक दिन उनका सम्मान करें. 
 
fqbukr7g

Kanya Pujan 2018

नवरात्रि से जुड़ी बाकी खबरें

Navratri 2018: आखिर क्यों 'शेर' पर सवार रहती हैं मां दुर्गा, जानिए कैसे जंगल का राजा बना शेरावाली का वाहन
नवरात्रि स्पेशल व्रत रेसिपी 2018: 3 सबसे आसान और लाइट स्नैक्स, जो झटपट बनें और मन खुश कर दें
ना करवट 21 कलश सीने पर लिए 9 दिनों तक भूखे-प्यासे लेटे हैं ये बाबा, ऐसे कर रहे हैं मां दुर्गा की आराधना
Navratri Jau Pujan: नवरात्रि के दौरान क्यों बोए जाते हैं जौ, जानिए धार्मिक महत्व
मां दुर्गा के 9 रंग, जानिए कन्या पूजन और नवरात्रि के आखिरी पहनें कौन-सा कलर
नवरात्रि के दौरान हर घर में बजती हैं मां दुर्गा की ये 7 आरतियां, YouTube पर भी देख चुकें हैं करोड़ों लोग
Navratri 2018: नवरात्रि पर मां के भक्तों को भेजें ये शानदार मैसेजेस, ऐसे कहें Happy Navratri
Navaratri 2018: कलश स्‍थापना क्‍यों और कैसे की जाती है, जानिए सामग्री और शुभ मुहूर्त भी
Navratri 2018: शारदीय नवरात्रि हुए शुरू, जानिए पूरे 9 दिनों मां दुर्गा के किन रूपों की होगी पूजा
Navratri 2018: नवरात्रि शुरू, जानिए शुभ मुहूर्त, कलश स्‍थापना की विधि, व्रत विधान और दुर्गा पूजा का महत्‍व
Happy Navratri 2018: नवरात्रि के इन 9 दिनों में ऐसा होना चाहिए आपका Facebook और Whatsapp Status
नवरात्र 2018: जहां तवायफ के कोठे की मिट्टी से तैयार होती हैं दुर्गा मां की मूर्तियां
Navratri 2018: नवरात्रि व्रत के दौरान इन 10 बातों का रखें ध्यान, जानिए नवरात्र उपवास के सभी नियम
Navratri 2018: नवरात्रि में मां दुर्गा को खिलाएं उनका मनपसंद खाना, नौ दिनों में चढ़ाएं नौ तरह का भोग
Navratri 2018: नवरात्रि के पहले दिन ऐसे करें मां शैल पुत्री की पूजा, जानिए मंत्र, कवच और स्तोत्र पाठ
Navratri 2018: मन में शांति लाता है मां दुर्गा का दूसरा रूप, जानिए ब्रह्मचारिणी के बारे में सबकुछ
Navratri 2018: नवरात्रि का तीसरा दिन, मां चंद्रघंटा की पूजा में 'घंटा' का है बेहद महत्व

Navratri 2018: नवरात्रि का चौथा दिन, मां कूष्माण्डा की पूजा करते वक्त जरूर पढ़ें ये आरती
Maha Saptami 2018: महासप्‍ती के दिन मां दुर्गा को कराया जाता है महा स्‍नान, जानिए नवपत्रिका पूजन की विधि और शुभ मुहूर्त
सिर्फ वैष्णों देवी ही नहीं, मां दुर्गा के ये 7 मंदिर भी हैं बेहद प्रसिद्ध
Ashtami 2018: जानिए दुर्गा अष्‍टमी की तिथि और कन्‍या पूजन का सही समय
Durga Puja 2018: दुर्गा पूजा शुरू, जानिए पंडाल, धुनुची डांस और सिंदूर खेला के बारे में सब कुछ
Maha Saptami 2017: अत्‍यंत शुभ है मां कालरात्रि का स्‍वरूप, जानिए पूजा विधि और मंत्र
Navratri 2018: मां दुर्गा का पांचवा रूप है स्कंदमाता, जानिए इनकी खास आरती
Navratri 2018: मां दुर्गा का छठा रूप है माता कात्यायनी, जानिए कैसे करें कात्यायनी माता की पूजा
Navratri 2018: अपने दोस्तों को भेजें मां दुर्गा के ये 10 मैसेजेस

Videos: जोधपुर पार्क की दुर्गा पूजा पंडाल
(कोलकाता की दुर्गा पूजा से जुड़े वीडियो सब्‍सक्राइब करने के लिए क्लिक करें यहां)

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement